ठहरता एक भी मंजर नहीं वीरान आँखों में 👀


ठहरता एक भी मंजर नहीं वीरान आँखों में,
हमारे शहर से बादल भी बिन बरसे निकलता है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Thheharta Ek Bhi Manzar Nahi Veeran Aankhon Mein,
Humare Shahar Se Badal Bhi Bin Barse Nikalta Hai.
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment