होगा किसी दीवार के साए में पड़ा मीर


होगा किसी दीवार के साए में पड़ा मीर,
क्या काम मोहब्बत से उस आराम-तलब को।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Hoga Kisi Deewar Ke Saaye Mein Pada Mir,
Kya Kaam Mohabbat Se Uss Aaram-Talab Ko.
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment