कोई हाथ भी न मिलाएगा 🙂


कोई हाथ भी न मिलाएगा,
जो गले मिलोगे तपाक से,
ये नए मिजाज का शहर है,
जरा फ़ासले से मिला करो।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Koyi Haath Bhi Na Milayega,
Jo Gale Miloge Tapaak Se,
Ye Naye Mizaaz Ka Shahar Hai,
Zara Faasle Se Mila Karo.
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment