ये मत पूछ के एहसास की शिद्दत क्या थी 🙂


ये मत पूछ के एहसास की शिद्दत क्या थी,
धूप ऐसी थी के साए को भी जलते देखा।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Yeh Mat Puchh Ke Ehsaas Ki Shiddat Kya Thi,
Dhoop Aisi Thi Ki Saaye Ko Bhi Jalte Dekha.
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment