2 line shayari - 2 लाइन शायरी

ये इश़्क तो मर्ज़ ही बुढ़ापे का है दोस्तो ☺️


ये इश़्क तो मर्ज़ ही बुढ़ापे का है दोस्तो,
जवानी में फुर्सत ही कहाँ आवारगी से।
Click To Tweet

Ye Ishq Toh Marz Hi Budhape Ka Hai Dosto,
Jawani Mein Fursat Hi Kahan Aawargi Se.
Click To Tweet
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top