2 line shayari - 2 लाइन शायरी

तेरी साँसों की आहट को भी जब पहचानता हूँ मैं 😍


तेरी साँसों की आहट को भी जब पहचानता हूँ मैं,
मुझे रुसवा करे तू इसकी गुंजाइश कहाँ है अब।
Click To Tweet

Teri Saason Ki Aahat Ko Bhi Pehchanta Hun Main,
Mujhe Ruswa Kare Tu Iski Gunjaish Kahan Hai Ab.
Click To Tweet
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top