2 line shayari - 2 लाइन शायरी

तेरी साँसों की आहट को भी जब पहचानता हूँ मैं 😍


तेरी साँसों की आहट को भी जब पहचानता हूँ मैं,
मुझे रुसवा करे तू इसकी गुंजाइश कहाँ है अब।
CopyShare Tweet
Copied Successfully !

Teri Saason Ki Aahat Ko Bhi Pehchanta Hun Main,
Mujhe Ruswa Kare Tu Iski Gunjaish Kahan Hai Ab.
CopyShare Tweet
Copied Successfully !
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top