2 line shayari - 2 लाइन शायरी

मेरी नाराज़गी पर हक़ मेरे अहबाब का है बस


मेरी नाराज़गी पर हक़ मेरे अहबाब का है बस,
भला दुश्मन से भी कोई कभी नाराज़ होता है।
CopyShare Tweet
Copied Successfully !

Meri Narajgi Par Hak Mere Ahbaab Ka Hai Bas,
Bhala Dushman Se Bhi Koi Kabhi Naraj Hota Hai.
CopyShare Tweet
Copied Successfully !

यहाँ भी देखे : Beautiful Long Romantic Shayari for Her

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top