लौट जाती है उधर को भी नज़र क्या कीजे


लौट जाती है उधर को भी नज़र क्या कीजे,
अब भी दिलकश है तेरा हुस्न मगर क्या कीजे।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Laut Jaati Hai Udhar Ko Bhi Najar Kya Keeje,
Ab Bhi DilKash Hai Tera Husn Magar Kya Keeje.
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment