कभी क़रीब तो कभी दूर हो के रोते हैं 😉


कभी क़रीब तो कभी दूर हो के रोते हैं,
मोहब्बतों के भी मौसम अजीब होते हैं।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Kabhi Qareeb To Kabhi Door Ho Ke Rote Hain,
Mohabbaton Ke Mausam Bhi Ajeeb Hote Hain.
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment