2 line shayari - 2 लाइन शायरी

जमाने भर की रुसवाईयाँ और बेचैन रातें ☹️


जमाने भर की रुसवाईयाँ और बेचैन रातें,
ऐ दिल कुछ तो बता ये माजरा क्या है।
Click To Tweet

Jamaane Bhar Ki Ruswayian Aur Bechain Raatein,
Aye Dil Kuchh To Bata Ye Mazraa Kya Hai?
Click To Tweet
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top