इश्क़ में जी को सब्र-ताब कहाँ


इश्क़ में जी को सब्र-ताब कहाँ,
उस से आँखें लड़ीं तो ख़्वाब कहाँ।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Ishq Mein Jee Ko Sabr-Taab Kahan,
Uss Se Aankhein Ladi Toh Khwab Kahan.
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment