चुभता तो बहुत कुछ मुझको भी है


चुभता तो बहुत कुछ मुझको भी है तीर की तरह,
मगर ख़ामोश रहता हूँ, अपनी तक़दीर की तरह।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Chubhta To Bahut Kuchh Hai Mujhe Teer Ki Tarah,
Magar Khamosh Rehta Hoon Apni Takdeer Ki Tarah.
Copy Tweet
Copied Successfully !

यह भी देखे :  mirza ghalib shayari in hindi pdf

Leave a Comment