औक़ात नहीं थी जमाने की


औक़ात नहीं थी जमाने की
जो मेरी कीमत लगा सके,
कबख़्त इश्क में क्या गिरे
मुफ़्त में नीलाम हो गए।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Aukat Nahi Thi Jamaane Ki
Jo Meri Keemat Laga Sake,
Kambakht Ishq Mein Kya Gire
Muft Mein Neelam Ho Gaye.
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment