अनोखी वजाअ है सारे ज़माने से निराले हैं 😇


अनोखी वजाअ है सारे ज़माने से निराले हैं,
ये आशिक़ कौन सी बस्ती के या रब रहने वाले हैं।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Anokhi Bazaa Hai Saare Zamaane Se Niraale Hain,
Ye Aashiq Kaun Si Basti Ke Ya Rab Rahne Wale Hain.
Copy Tweet
Copied Successfully !

यह भी देखे : ग़ालिब शायरी गम के ऊपर

Leave a Comment