2 line shayari - 2 लाइन शायरी

अनोखी वजाअ है सारे ज़माने से निराले हैं 😇


अनोखी वजाअ है सारे ज़माने से निराले हैं,
ये आशिक़ कौन सी बस्ती के या रब रहने वाले हैं।
Click To Tweet

Anokhi Bazaa Hai Saare Zamaane Se Niraale Hain,
Ye Aashiq Kaun Si Basti Ke Ya Rab Rahne Wale Hain.
Click To Tweet

यह भी देखे : ग़ालिब शायरी गम के ऊपर

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

घर बैठे 2000 रुपये महीना कमाइए X
To Top