ऐसे बिगड़े कि फिर जफ़ा भी न की


ऐसे बिगड़े कि फिर जफ़ा भी न की,
दुश्मनी का भी हक अदा न हुआ।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Aise Bigde Ke Phir Zafa Bhi Na Ki,
Dushmani Ka Haq Adaa Bhi Na Hua.
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment