आरजू ये है कि इज़हार-ए-मोहब्बत कर दें


आरजू ये है कि इज़हार-ए-मोहब्बत कर दें,
अल्फाज़ चुनते है तो लम्हात बदल जाते हैं।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Aarzoo Ye Hai Ke Izhaar-e-Mohabbat Kar Dein,
Alfaaz Chunte Hain Toh Lahmhaat Badal Jaate Hain.
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment