उसको रुखसत तो किया था मुझे मालूम न था 🙂


उसको रुखसत तो किया था मुझे मालूम न था,
सारा घर ले गया घर छोड़ के जाने वाला,
इक मुसाफिर के सफर जैसी है सब की दुनिया,
कोई जल्दी में कोई देर से जाने वाला।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Usko Rukhsat Toh Kiya Tha Mujhe Malum Na Tha,
Sara Ghar Le Jayega Ghar Chhod Ke Jaane Wala,
Ik Musafir Se Safar Jaisi Hai Sab Ki Duniya,
Koi Jaldi Toh Koi Der Se Jaane Wala.
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment