Pyar bhari Shayari - प्यार भरी शायरी

कुछ रिश्ते उम्र भर अगर बेनाम रहे तो अच्छा है ☹️


कुछ रिश्ते उम्र भर अगर बेनाम रहे तो अच्छा है,
आँखों आँखों में ही कुछ पैगाम रहे तो अच्छा है,
सुना है मंज़िल मिलते ही उसकी चाहत मर जाती है,
गर ये सच है तो फिर हम नाकाम रहें तो अच्छा है,
जब मेरा हमदम ही मेरे दिल को न पहचान सका,
फिर ऐसी दुनिया में हम गुमनाम रहे तो अच्छा है।
CopyShare Tweet
Copied Successfully !

Kuchh Rishte Umr Bhar Agar Benaam Rahen Toh Achchha Hai,
Aankho Aankho Me Hi Kuchh Paigaam Rahe Toh Achchha Hai.
Suna Hai Manzil Milte Hi Uski Chahat Mar Jaati Hai,
Gar Yeh Sach Hai Toh Fir Hum Naakam Rahen Toh Achchha Hai.
Jab Mera Humdum Hi Mere Dil Ko Na Pahchhan Saka,
Aisi Duniya Mein Hum Gum-Naam Rahein Toh Achchha Hai.
CopyShare Tweet
Copied Successfully !
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top