Intezaar Shayari - इंतज़ार शायरी

यूँ पलके बिछा कर तेरा इंतज़ार करते है 🙁


यूँ पलके बिछा कर तेरा इंतज़ार करते है,
यह वो गुनाह है जो हम बार बार करते है,
जलकर हसरत की राह पर चिराग,
हम सुबह और शाम तेरे मिलने का इंतज़ार करते है.
CopyShare Tweet
Copied Successfully !

Yun palke bicha kar tera intezar karte hai,
Yeh wo gunah hai jo hum baar baar karte hai,
Jalakar hasrat ki rah par chirag,
Hum subah aur sham tere milne ka intezar karte hai.
CopyShare Tweet
Copied Successfully !
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top