वो करीब ही न आये तो इज़हार क्या करते ❤


वो करीब ही न आये तो इज़हार क्या करते,
खुद बने निशाना तो शिकार क्या करते,
मर गए पर खुली रखी आँखें,
इससे ज्यादा किसी का इंतजार क्या करते! 💔
Copy Tweet
Copied Successfully !

Woh kareeb hi na aaye to izhaar kya karte,
Khud bane nishana to shikaar kya karte,
Mar gaye par khuli rakhi aankhein,
Is se zyada kisi ka intezar kya karte. 💔
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment