Intezaar Shayari - इंतज़ार शायरी

वक़्त का पता नहीं चलता अपनों के साथ 😕


वक़्त का पता नहीं चलता अपनों के साथ,
पर अपनों का पता चलता है वक़्त के साथ,
वक़्त नहीं बदलता अपनों के साथ,
पर अपने ज़रूर बदल जाते हैं वक़्त के साथ।
Click To Tweet

Waqt Ka Pata Nahi Chalta Apno Ke Saath,
Par Apno Ka Pata Chalta Hai Waqt Ke Saath,
Waqt Nahi Badalta Apno Ke Saath,
Par Apne Jarur Badal Jate Hain Waqt Ke Saath.
Click To Tweet
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top