Intezaar Shayari - इंतज़ार शायरी

उदास आँखों में अपनी करार देखा है ☹


उदास आँखों में अपनी करार देखा है,
पहली बार उसे बेक़रार देखा है,
जिसे खबर ना होती थी मेरे आने जाने की,
उसकी आँखों में अब इंतज़ार देखा है।
Click To Tweet

Udas aankhon mein apani karaar dekha hai,
Pahali baar use beqaraar dekha hai,
Jise khabar na hoti thi mere aane jaane ki,
Uski aankhon mein ab intazaar dekha hai.
Click To Tweet
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top