Intezaar Shayari - इंतज़ार शायरी

निगाहों में कोई भी दूसरा चेहरा

Ek Aarzoo Hai Agar Poori Parvardigar Kare,
Main Der Se Jaaun Aur Woh Mera Intezaar Kare.❤

एक आरज़ू है अगर पूरी परवरदिगार करे,
मैं देर से जाऊं और वो मेरा इंतज़ार करे।❤

Nigahon Mein Koi Bhi Doosra Chehra Nahi Aaya,
Bharosa Hi Kuchh Aisa Tha Tumhare Laut Aane Ka.❤

निगाहों में कोई भी दूसरा चेहरा नहीं आया,
भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने का।❤

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top