Intezaar Shayari - इंतज़ार शायरी

जाने उस शख्स को कैसे ये हुनर आता है 🤔


जाने उस शख्स को कैसे ये हुनर आता है,
रात होती है तो आँखों में उतर आता है,
मैं उस के खयालो से बच के कहाँ जाऊं,
वो मेरी सोच के हर रस्ते पे नजर आता है।
CopyShare Tweet
Copied Successfully !

Jaane us shakhs ko kaisa ye hunar aata hai,
Raat hoti hai to ankhoo main utar aata hai,
main us ke khyaal se niklu to kahan jaau,
wo meri soch ke har raste pe nazar aata hai.
CopyShare Tweet
Copied Successfully !
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top