Intezaar Shayari - इंतज़ार शायरी

दिन की रोशनी ख्वाबों को सजाने में गुजर गई 😍


दिन की रोशनी ख्वाबों को सजाने में गुजर गई,
रात की नींद बच्चे को सुलाने मे गुजर गई,
जिस घर मे मेरे नाम की तखती भी नहीं,
सारी उमर उस घर को बनाने में गुजर गई।
Click To Tweet

Din Ki Roshni Khwabon Ko sajaane Mein Gujar Gayi,
Raat Ki Neend Bachche Ko Sulane Mein Gujar Gayi,
Jis Ghar Mein Mere Naam Ki Takhti Bhi Nahi Hai,
Saari Umar Uss Ghar Ko Banane Mein Gujar Gayi.
Click To Tweet
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top