Intezaar Shayari - इंतज़ार शायरी

दिलों की बंद खिड़की खोलना अब जुर्म जैसा है


दिलों की बंद खिड़की खोलना अब जुर्म जैसा है,
भरी महफिल में सच बोलना अब जुर्म जैसा है,
हर एक ज्यादती को सहन कर लो चुपचाप,
शहर में इस तरह से चीखना जुर्म जैसा है।
CopyShare Tweet
Copied Successfully !

Dilon Ki Band Khidki Kholna Ab Zurm Jaisa Hai,
Bhari Mehfil Mein Sach Bolna Ab Zurm Jaisa Hai,
Har Ek Jyadti Ko Sahen Kar Lo Chupchap,
Shahar Mein Iss Tarah Se Cheekhna Zurm Jaisa Hai.
CopyShare Tweet
Copied Successfully !
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top