भटकते रहे हैं बादल की तरह 🙁


भटकते रहे हैं बादल की तरह,
सीने से लगालो आँचल की तरह,
गम के रास्ते पर ना छोड़ना अकेले,
वरना टूट जाएँगे पायल की तरह।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Bhatakte Rahe Hain Baadal Ki Tarah,
Seene Se Laga Lo Aanchal Ki Tarah,
Gham Ke Raste Par Na Chhodna Akele,
Varna Toot Jayenge Payal Ki Tarah.
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment