Intezaar Shayari - इंतज़ार शायरी

आँखों में मेरी कई लोगो ने पढ़ा है 👀

Aankhon mein meri kai logo ne padha hai,
Pinjare ke panchhi sa dil bebas khada hai,
Azaad hokar khule aasamaan mein udhane ko bekaraar hai,
Kisi aur ka nahi mujhe sirf tera hi intezaar hai. 🍂

आँखों में मेरी कई लोगो ने पढ़ा है,
पिंजरे के पंछी सा दिल बेबस खड़ा है,
आज़ाद होकर खुले आसमां में उड़ने को बेकरार है,
किसी और का नहीं मुझे सिर्फ तेरा ही इंतेज़ार है। 🍂

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top