Ghalib Shayari - ग़ालिब शायरी

ज़ख़्म जब मेरे सीने के भर जाएँगे ☹


ज़ख़्म जब मेरे सीने के भर जाएँगे,
आँसू भी मोती बनकर बिखर जाएँगे,
ये मत पूछना किस किस ने धोखा दिया,
वरना कुछ अपनो के चेहरे उतर जाएँगे।
Click To Tweet

Zakham Jab Mere Seene Ke Bhar Jayenge,
Aansu Bhi Moti Bankar Bikhar Jayenge,
Ye Mat Puchhna Ki Kis Ne Dard Diya,
Warna Kuchh Apno Ke Chehre Bhi Utar Jayenge.
Click To Tweet
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top