Ghalib Shayari - ग़ालिब शायरी

उनकी मोहब्बत का अभी निशान बाकी हैं


उनकी मोहब्बत का अभी निशान बाकी हैं,
नाम लब पर हैं मगर जान अभी बाकी हैं,
क्या हुआ अगर देख कर मूंह फेर लेते हैं वो..
तसल्ली हैं कि अभी तक शक्ल कि पहचान बाकी हैं!
CopyShare Tweet
Copied Successfully !

Unki mohabbat ka abhi nishan baki hai,
Naam hothon par hai, Jaan abhi baki hai
Kya hua agar dekh kar muh pher leti hai wo..
Tasalli toh hai ki Chehre ki pehchaan abhi baki hai!
CopyShare Tweet
Copied Successfully !
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top