Ghalib Shayari - ग़ालिब शायरी

तेरे गम को अपनी रूह में उतार लूँ 😣


तेरे गम को अपनी रूह में उतार लूँ,
जिन्दगी तेरी चाहत में सवार लूँ,
मुलाकात हो तुझ से कुछ इस तरह,
तमाम उमर बस इक मुलाकात में गुजार लूँ।
Click To Tweet

Tere gam ko apni ruh me utar lu,
Jindagi teri chahat me sabar lu,
Mulakat ho tujhse es tarah,
Tamam umar bas ek mulakat me gujar lu.
Click To Tweet
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top