Ghalib Shayari - ग़ालिब शायरी

सौ जान से हो जाऊँगा राज़ी मैं सज़ा पर


सौ जान से हो जाऊँगा राज़ी मैं सज़ा पर,
पहले वो मुझे अपना गुनहगार तो कर ले।
Click To Tweet

Sau Jaan Se Ho Jaunga Raazi Main Saza Par,
Pahle Woh Mujhe Apna GunahGar Toh Kar Le.
Click To Tweet
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top