Ghalib Shayari - ग़ालिब शायरी

सर झुकाने की आदत नहीं है 🙏


सर झुकाने की आदत नहीं है,
आँसू बहाने की आदत नहीं है,
हम खो गए तो पछताओगे बहुत,
क्युकी हमारी लौट के आने की आदत नहीं है!
CopyShare Tweet
Copied Successfully !

Sar Jhukane Ki Aadat Nahi Hai.
Aansu Bahane Ki Aadat Nahi Hai.
Hum Kho Gaye To Pachtaoge Bahut.
Kyun ki Hame Laut Ke Aane Ki Aadat Nahi Hai.
CopyShare Tweet
Copied Successfully !
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top