Ghalib Shayari - ग़ालिब शायरी

रोया हूँ बहुत तब जरा करार मिला है 😭


रोया हूँ बहुत तब जरा करार मिला है,
इस जहाँ में किसे भला सच्चा प्यार मिला है,
गुजर रही है जिंदगी इम्तिहान के दौर से,
एक ख़तम तो दूसरा तैयार मिला है।
Click To Tweet

Roye Hai Bahut Tab Zara Karaar Mila Hai,
Is Jahan Mein Kise Bhala Sacha Pyaar Mila Hai,
Guzar Rahi Hai Zindagi Imtehan Ke Daur Se,
Ek Khatam Hua Toh Dusra Tayar Mila Hai.
Click To Tweet
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

घर बैठे 2000 रुपये महीना कमाइए X
To Top