कभी नेकी भी उस के जी में गर आ जाए है मुझ से


कभी नेकी भी उस के जी में गर आ जाए है मुझ से
जफ़ाएँ कर के अपनी याद शरमा जाए है मुझ से
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment