काँटों की ज़बाँ सूख गई प्यास से या रब


काँटों की ज़बाँ सूख गई प्यास से या रब
इक आबला-पा वादी-ए-पुर-ख़ार में आवे
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment