Ghalib Shayari - ग़ालिब शायरी

इस शहर की भीड़ में चेहरे सारे अजनबी 😍


इस शहर की भीड़ में चेहरे सारे अजनबी,
रहनुमा है हर कोई, पर रास्ता कोई नहीं,
अपनी-अपनी किस्मतों के सभी मारे यहाँ,
एक-दूजे से किसी का वास्ता कोई नहीं।
Click To Tweet

Iss Shahar Ki Bheed Mein Chehre Saare Ajnabi,
Rahnuma Hai Har Koi Par Rasta Koi Nahi,
Apni Apni Kismaton Ke Sabhi Maare Yahan,
Ek-Duje Se Kisi Ka Wasta Koi Nahi.
Click To Tweet
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top