Ghalib Shayari - ग़ालिब शायरी

फ़िज़ा में ज़हर भरा है जरा संभल कर चलो 😊


फ़िज़ा में ज़हर भरा है जरा संभल कर चलो,
मुखालिफ आज हवा है जरा संभल कर चलो,
कोई देखे न देखे बुराइयां अपनी..
खुदा तो देख रहा है जरा संभल कर चलो।
Click To Tweet

Fiza mein zahar bhara hai jara sambhal kar chalo,
Mukhaaliph aaj hawa hai jara sambhal kar chalo,
Koi dekhe na dekhe buraiyaan apani..
Khuda to dekh raha hai jara sambhal kar chalo.
Click To Tweet
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top