Ghalib Shayari - ग़ालिब शायरी

देख कर मेरा नसीब मेरी तक़दीर रोने लगी


देख कर मेरा नसीब मेरी तक़दीर रोने लगी,
लहू के अल्फाज़ देख कर तहरीर रोने लगी,
हिज्र में दीवाने की हालत कुछ ऐसी हुई,
सूरत को देख कर खुद तस्वीर रोने लगी।
CopyShare Tweet
Copied Successfully !

Dekh Mera Naseeb Meri Taqdeer Rone Lagi,
Lahu Ke Alfaaz Dekh Tehreer Rone Lagi,
Tere Hijar Me Diwane Ki Haalat Aisi Huyi,
Surat Dekh Kar Khud Tasveer Rone Lagi.
CopyShare Tweet
Copied Successfully !
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top