Ghalib Shayari - ग़ालिब शायरी

चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये हैं 🙂


चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये हैं,
इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये हैं, 
महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश ,
जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये है।
Click To Tweet

Chehron Ke Liye Aayine Kurbaan Kiye Hain,
Iss Shauk Mein Apne Bade Nuksaan Kiye Hain,
Mehfil Mein Mujhe Gaaliyan Dekar Hai Bahut Khush,
Jis Shakhs Par Maine Bade Ehsaan Kiye Hain.
Click To Tweet
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top