भीगी हुयी आँखों का ये मंजर न मिलेगा 😢


भीगी हुयी आँखों का ये मंजर न मिलेगा,
घर छोड़ कर मत जाओ कहीं घर न मिलेगा।
फिर याद बहुत आएगी जुल्फों की घनी शाम,
जब धूप में साया कोई सर पर न मिलेगा।
आंसू हैं ये इन्हें ओस का कतरा न समझना,
कहीं ऐसा तुम्हें चाहत का समन्दर न मिलेगा।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Bhigi Huyi Aankhon Ka Yeh Manjar Na Milega,
Ghar Chhod Kar Mat Jaao Kahin Ghar Na Milega.
Phir Yaad Bahut Aayegi Zulfon Ki Ghani Shaam,
Jab Dhoop Mein Saya Koyi Sar Par Na Milega.
Aansu Hain Yeh Inhein Os Ka Katra Na Samjhana,
Kahin Aisa Tumhein Chahat Ka Samander Na Milega.
Copy Tweet
Copied Successfully !

यह भी देखे : दिल छूने वाली शायरी

Leave a Comment