Ghalib Shayari - ग़ालिब शायरी

आते हैं ग़ैब से ये मज़ामीं ख़याल में


आते हैं ग़ैब से ये मज़ामीं ख़याल में
‘ग़ालिब’ सरीर-ए-ख़ामा नवा-ए-सरोश है
CopyShare Tweet
Copied Successfully !
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top