Ghalib Shayari - ग़ालिब शायरी

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक


आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक
CopyShare Tweet
Copied Successfully !
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top