बचपन के दिन भी कितने अच्छे होते थे


बचपन के दिन भी कितने अच्छे होते थे,
तब दिल नहीं सिर्फ खिलौने टूटा करते थे,
अब तो एक आंसू भी बर्दाश्त नहीं होता,
और बचपन में जी भरकर रोया करते थे।
Click To Tweet

Bachpan Ke Din Kitne Achhe Hote The,
Tab Dil Nahi Sirf Khilone Tuta Karte The,
Ab To Ek Aansu Tak Bhi Bardaasht Nahi Hota,
Aur Bachpan Mein Jee Bharkar Roya Karte The.
Click To Tweet

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *