निगाहों के तक़ाज़े 👀


निगाहों के तक़ाज़े
चैन से मरने नहीं देते,
यहाँ मंज़र ही ऐसे हैं
कि दिल भरने नहीं देते,
क़लम मैं तो उठा कर
जाने कब का रख चुका होता,
मगर तुम हो कि क़िस्सा
मुख़्तसर करने नहीं देते।
Copy Tweet
Copied Successfully !

Nigaaho Ke Takaaje
Chain Se Marne Nahi Dete,
Yahan Manjar Hi Aise Hain
Ke Dil Bharne Nahi Dete,
Kalam Main To Utha Kar
Jaane Kab Ka Rakh Chuka Hota,
Magar Tum Ho Ke Kissa
Mukhtsar Karne Nahi Dete!
Copy Tweet
Copied Successfully !

Leave a Comment