दिल खफा है कुछ दिन से

अजीब रंग का मौसम चला है कुछ दिन से,
नजर पे बोझ है और दिल खफा है कुछ दिन से,
वो और था जिसे तू जानता था बरसों से,
मैं और हूँ जिसे तू मिल रहा है कुछ दिन से।🌹

Ajeeb Rang Ka Mausam Ho Chala Hai Kuchh Din Se,
Najar Pe Bojh Hai Aur Dil Khafa Hai Kuchh Din Se,
Woh Aur Tha Jise Janta Tha Barson Se,
Main Aur Hoon Jise Tu Mil Raha Hai Kuchh Din Se.🌹

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *