Dil Shayari - दिल शायरी

भवें तनी हैं ख़ंजर हाथ में है तन के बैठे हैं ❣️


भवें तनी हैं ख़ंजर हाथ में है तन के बैठे हैं,
किसी से आज बिगड़ी है कि वो यूँ बन के बैठे हैं।
ये गुस्ताख़ी ये छेड़ अच्छी नहीं है ऐ दिल-ए-नादाँ,
अभी फिर रूठ जाएँगे अभी तो मन के बैठे हैं।
CopyShare Tweet
Copied Successfully !

Bhavein Tani Hain Khanjar Haath Mein Hai Tan Ke Baithe Hain,
Kisi Se Aaj Bigdi Hai Ke Woh Yun Ban Ke Baithe Hain.
Yeh Gustakhi Yeh Chhed Achchi Nahi Hai Aye Dil-e-Naadan,
Abhi Phir Ruthh Jayenge Abhi Ton Man Ke Baithe Hain.
CopyShare Tweet
Copied Successfully !
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top