भले किसी ग़ैर की जागीर थी वो 😇


भले किसी ग़ैर की जागीर थी वो,
पर मेरे ख्वाबों की तस्वीर थी वो,
मुझे मिलती तो कैसी मिलती,
किसी और के हिस्से की तकदीर थी वो।
Click To Tweet

Bhale Hi Kisi Ghair Ki Jaagir Thi Woh,
Par Mere Khwabon Ki Tasveer Thi Woh,
Mujhe Milti To Kaise Milti,
Kisi Aur Ke Hisse Ki Taqdeer Thi Woh
Click To Tweet

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *