Shayari e Dard - दर्द ए दिल शायरी

वो रात बेहद दर्द और सितम की रात होगी 💔

वो रात बेहद दर्द और सितम की रात होगी,
जिस रात रुख़्सत उसकी बरात होगी,
टूट जाती है मेरी नींद हमेशा ये सोचकर,
कि किसी और की बाहों में मेरी पूरी कायनात होगी !!💔

Wo raat behad dard or sitam ki raat hogi,
Jis raat ruksat uski baraat hogi,
Toot jaati hai meri neend hamesha ye sochkar,
Ki kisi aur ki baahon mein meri poori kaaynaat hogi !!💔

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top