Shayari e Dard - दर्द ए दिल शायरी

मेरे इस दर्द-ए-दिल को 💔

मेरे इस दर्द-ए-दिल को किसने देखा है,
मुझे बस मेरे रब ने तड़पते हुए देखा है,
मैं अक्सर तन्हाई में बैठा रोता हूँ,
और लोगों ने मुझे महफ़िलों में हँसते हुए देखा है !!💔

Mere is dard-e-dil ko kisne dekha hai,
Mujhe bus mere rab ne tadapte huye dekha hai,
Main aksar tanhaayi mein baitha rota hoon,
Aur logo ne mujhe mehfilon mein hanste huye dekha hai !!💔

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top